Advertisements

Recent Posts

शायर

  तुम्हारी ज़ुल्फ़ को जब मैंने घटा कह दिया तुम्हारी आँखों की गेहराई को सागर कह दिया तुम्हारे होटों को कहा प्याले शराब के तुम्हारे गालों को कहा फूल गुलाब के तो लोगो ने ख़्वामख्वा मुझे शायर कह दिया वो क्या जाने ,असली शायरी तो तुम लिखती थी  

इश्क़

  थोड़ी हसकर, थोड़ी रूठकर अब सब से मैं बतियाती हूँ लोग कहते है तेरे इश्क़ में पागल पागल फिरती हूँ बरसने लगे बारिश तो अब छाता लेकर भीगती हूँ लोग कहते है तेरे इश्क़ में पागल पागल फिरती हूँ देर -सवेर ,चुप-चाप अब सपने बुनती रहती हूँ ऑंखें झुकाएं शरमा के अब अकेलिहि हस्ती … Continue reading इश्क़

Saath.

तुम आकाश हो अगर कभी मैं रहूंगी धरा तुम्हारी तुम पेड़ हो अगर कभी मैं रहूंगी छाया तुम्हारी तुम अगर फूल बन जाओ मैं महकूँगी तुम्हारी महक तुम अगर सागर बन जाओ तो छल्कुंगी बनकर तुम्हारी लेहेर तुम मेरे तन के कण-कण में बसे रहोगे मैं तुम्हारे मन के हर घर में बसी रहूंगी आएगा … Continue reading Saath.

More Posts